Tuesday, August 21, 2018

Vipta Haro Karo Kripa

------ तर्ज:- साँची कहे ------
------ फिल्म:- नदिया के पार ------

विपता हरो करो कृपा माँ दुर्गे,
बिगड़ी हमारी संवार दो जी,
दर पे सवाली तुम्हारे माँ काली,
आशीष झोली में डार दो जी ||

करती है जगदम्बे सिंह पे सवारी,
माया किसी ने न जानी तुम्हारी,
विनती हरे हैं तोरे चरणों पड़े हैं,
भक्तों के संकट को तार दो जी ||

कोई कहे काली, कोई कलकत्ते वाली,
शुम्भ निशुम्भ पछाड़ने वाली,
दुष्टों को मारा है, भक्तों को तारा है,
हमको भी काली माँ तार दो जी ||

दुनिया तेरी चार दिन का है डेरा,
मुझको कहें सब यहाँ मेरा मेरा,
मैं मोह माया में डूबा हुआ हूँ,
मैया "पदम्" को उबार दो जी ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives