Monday, August 6, 2018

Sunke Pukaar Maa Chali Aaiye

------ तर्ज:- इश्क और प्यार का मज़ा लीजिये ------

सुनके पुकार माँ चली आइये,
सिंह पे सवार माँ चली आइय,
होगा उपकार माँ चली आइये || सिंह पे सवार माँ चली आइय ||

देखकर भी मौन हैं यह ज़मीं आसमाँ,
पाप अत्याचार की लिख रहे हैं दास्ताँ  || लेके तलवार माँ चली आइये ||

हर गली के मोड़ पर रक्तबीज हो गए,
जग रहा अधर्म है, धर्म राज सो गए || छाया अन्धकार माँ चली आइये ||

आज कामधेनु को लोग काटने लगे,
दूध पीने की जगह चारा चाटने लगे || नैया मझधार माँ चली आइये ||

माँ के पूजा पाठ की हम न जाने साधना,
माँ "पदम्" को तार दो इतनी सी है प्रार्थना || कार्लो स्वीकार माँ चली आइये ||

करते इंतज़ार माँ चली आइये,
भरने भण्डार माँ चली आइये,
करने उद्धार माँ चली आइये,
बेड़ा करो पार माँ चली आइये ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives