Thursday, December 30, 2021

Shri ram ka pahle sumran kro

            तर्ज़:-पल पल न माने टिंकू जिया

           फ़िल्म:-यमला पगला दीवाना


                  * राम जी का भजन*

     श्री राम का पहले सुमरन करो

     नए बर्ष का अभिनंदन करो

(1)इक्कीश गई साल बाईश आई

    आशा उम्मीदों की सौगात लाई

    बीरों शहीदों का चिंतन करो ।।

    नये बर्ष का अभिनंदन करो ।।

(2)दो दिन का वचपन दो दिन जवानी

    हमको सिखाती है तुलसी के बानी

    हरि कीर्तन मन समर्पण करो ।

    नये बर्ष का अभिनंदन करो ।।

(3)जग में नही कोई तेरा न मेरा

   सत्कर्म से दूर होंगा अन्धेरा

   दया धर्म की ज्योत रोशन करो ।

   नये बर्ष का अभिनंदन करो ।।

(4)शनिवार को यह नया बर्ष आया

    हनुमान जी का शुभ सन्देश लाया

  "पदम्"रोज बजरंग के दर्शन करो।

   नये बर्ष का अभिनंदन करो ।।

                    //इति//

Share:

Wednesday, December 29, 2021

Tu kitni sachchi he,tu kitni bhori

 तर्ज़:-तू कितनी अच्छी है,तू कितनी भोली है

फ़िल्म:- राजा और रंक

                                * राधे भजन*


    तू कितनी सच्ची है,तू कितनी भोरी है

    बृज की छोरी है,राधे जू, राधे जू

    राधे जू, श्यामा जू----------

    यह जो मधुवन है,प्रेम का बन्धन है

    प्रीत की डोरी है,राधे जू, राधे जू

    राधे जू, श्यामा जु---

(1)तू बृषभान की राज दुलारी

    कोई न जाने तू अवतारी, चरन कमल बलिहारी

    तू मन भावन है,मन की पावन है

    नवल किशोरी है,राधे जू, राधे जू

    राधे जू, श्यामा जु-----


 (2)तू कोमल है,तू चंचल है

     तू निर्मल है ऐसे जैसे ,जमुना जी का जल है

     हर घर आंगन में,बृज के कण कण में

     राधे गोरी है,राधे जू, राधे जू

     राधे जू, श्यामा जू--------

(3) क्या गोकुल है क्या वरसाना,

    "पदम्"यह सारा बृंदावन है,राधे का दीवाना

    तेरे चरणों की रज मिलजाए तो,

     किरपा तोरी है,राधे जू, राधे जू

     राधे जू, श्यामा जू------ 

                      //इति//

 



Share:

Thursday, December 23, 2021

Radha vallabh teri aashiqi,

तर्ज़:- जिंदगी की न टूटे लड़ी


फ़िल्म:-क्रांति

                            राधा वल्लभ भजन

     राधा वल्लभ तेरीआशिक़ी ,खुशनुमा हो गई जिंदगी

     मोह माया की दुनिया को छोड़ो

     श्याम की कीजिये वन्दगी,खुशनुमा हो गई जिंदगी ।।

(1)मेरा दिल ले लिया आपने,यह करम कर दिया आपने

    हैसियत मेरी इतनी न थी,जितना मुझको दिया आपने

    मिल गई है मुझे हर खुशी,खुशनुमा हो गई जिंदगी ।।

(2)जबसे तेरी शरण आ गया,तेरे दर ही मुकाम हो गया,

   अब किसी दर पे जाना नही,इसी दर का गुलाम हो गया

   अब न छोड़ू तेरी चाकरी,खुशनुमा हो गई जिंदगी ।।

(3)सांवली है सूरत श्याम की,मोहिनी है मूरत श्याम की,

आपकी है शरण मे "पदम्" जपु माला तेरे नाम की

छवि प्यारी लगे आपकी,खुशनुमा हो गई जिंदगी ।।

                              //इति//

      

Share:

Wednesday, December 22, 2021

Ram ki diwani he,ke shabri

   तर्ज़:- हुस्न पहाड़ों का

  फ़िल्म:- राम तेरी गंगा मैली हो गई

                             *शबरी भजन*


     राम की दिवानी है-----राम की दिवानी है

    के सबरी भई रे बाबरी,यही अमर कहानी है-2

    कबहु तो आएँगे,-----कबहु तो आएँगे

   अँगना बिछा के पलकें,हम राह निहारेंगे,-2

(1)राम लखन जब कुटिया में आये

    शबरी मगन मन अति हर्षाये

    मीठे मीठे चख चख बेर खिलाये-2

    रुचि रुचि हरि खाये

    राम जी की महिमा है,लक्ष्मण जी सकुचाये-2

(2) राम सदा सन्तन हितकारी

     शबरी तारी अहिल्लिया तारी

    राम के चरनन की बलिहारी-2

    अबध बिहारी है

    के दसरथ जी के ललना,बड़े आज्ञाकारी है-2

(3)भवसागर का गहरा पानी

    राम भजन करले रे प्राणी

  "पदम्"यूं कह गए ज्ञानी ध्यानी

   रुत आनी जानी है

   माया में मन भटका,चार दिन जिंदगानी है-2

    राम की दिवानी है

   के शबरी भई रे बाबरी,यही अमर कहानी है

                         //इति//


   

  


Share:

Monday, December 13, 2021

Nile ghode bala khatu shyam he

              तर्ज़:- काली कमली बाला मेरा यार है

    नीले घोड़े बाला खाटू श्याम है-2


    कोटि कोटि चरणों मे प्रणाम है।।

(1)हारे का है एक सहारा,खाटू बाला श्याम हमारा ।

   सबसे प्यारा बाबा का यह नाम है।।कोटि कोटि।।

(2) हम जपते है नाम तुम्हारा,तुमने हर संकट से उबारा

    दुनिया के लोगो से अब क्या काम है ।।कोटि कोटि ।।

(3)रिस्ते नाते सब है झुटे,एक बाबा का द्वार न छूटे।

    सबसे अच्छा सबसे सच्चा धाम है ।।कोटि कोटि।।

(4)अपने दर से अब न टालो,"पदम् को अपना दास बनालो।

    बुरा भला हे तेरा ही गुलाम है।।कोटि कोटि।।

                         //इति//







    


    

              

Share:

Contributors