Monday, January 29, 2018

Japo Re Man Govardhan Girdhaari

तर्ज:- पायो जी मैंने राम रतन धन पायो

जपो रे मन गोवर्धन गिरधारी ||

सखियों के संग रास रचाए,
लूट लूट कर माखन खाए,
माधव मदन मुरारी || जपो ||

जमुना तट पे मुरली बजाये,
राधा की सुध बुध बिसराए,
राधा रमण बिहारी || जपो ||

गोवर्धन को नख पे धारो,
मथुरा जाए के कंस को मारो,
भक्तन के हितकारी || जपो ||

अर्जुन के रथ हाकने वाले,
गीता में उपदेश तुम्हारे,
चक्र सुदर्शन धारी || जपो ||

द्रौपदी ने जब टेर लगाई,
तुमने उसकी बिगड़ी बनाई,
"पदम्" चरण बलिहारी || जपो ||

-:इति:-


Share:

Aaj Dekho Shivaalay Mein

तर्ज :- कव्वाली

आज देखो शिवालय में कितने शिव के दर्शन को आये हुए हैं,
बस यही कामना को सजाये हम भी डेरा लगाए हुए हैं ||

चाल बहकी जटाएं भी बिखरी,
झूम कर मस्त डमरू की धुन पर,
इस तरह आ रहे वो जैसे गांजे की दम लगाये हुए हैं || आज ||

छोड़ दो आज नंदी सवारी,
भोले आ जाओ तुम नंगे पाओं,
आइये आपकी राह में हम अपनी पलकें बिछाए हुए हैं || आज ||

जिसने शंकर का गुणगान गाया,
उसने मुँह माँगा वरदान पाया,
ऐसे दानी हैं जो भस्मासुर को भस्म कगन लुटाये हुए हैं || आज ||

हम ना जायेंगे गंगा नहाने,
राज़ की बात है कौन जाने,
"पदम्" मन के मंदिर में हम तो गंगा धारी बसाए हुए हैं 

धर्म पर धन लुटाने जाते हैं, नाम अपना कमाने जाते हैं ||
पाप धुल जाएँ किसी तरह से लोग गंगा नहाने जाते हैं ||

-:इति:-



Share:

Japeja Shiv Naam ki Maala

जपेजा जपेजा जपेजा,
हरि नाम की माला शिव नाम की माला ||

शिव नाम की तू माला जपले रे प्यारे बन्दे,
कट जायेंगे दया से तेरे जन्म क फंदे || जपे ||

गंगा बहे जटों में हैं नंदी की सवारी,
दुनिया से निराली माया प्रभु तुम्हारी || जपे ||

भोले तुम्हारे दर पे जो भी सवाली आये,
सबको मिली है मुक्ति कोई न खाली जाए || जपे ||

सुनलो प्रभु कैलाशी विनती है यह ज़रासी,
कबसे "पदम्" की अँखियाँ तेरे दरश की प्यासी || जपे ||

-:इति:-


Share:

Gokul Me Shaam Dhale

तर्ज:- नीले गगन के तले

गोकुल में शाम ढले,
मथुरा को श्याम चले ||

राधा बेचारी रो रो के हारी,
आँखों का कजरा धुले || गोकुल ||

कोई पुकारे यमुना किनारे,
कोई कदम के तले || गोकुल ||

वह कुञ्ज वन में सखियों के मन में,
विरहा के दीप जले || गोकुल ||

जौहर दिखाओ मथुरा को जाओ,
कंस का पाप पले || गोकुल ||

दिलों जाँ अर्पण पाऊं जो दर्शन,
आस "पदम्" के फले || गोकुल ||

-:इति:- 


Share:

Saiyaan Chodo Baiyaan

तर्ज :- रहने दो रहने दो पर्दा न
फिल्म :- कन्यादान

रहने दो रहने दो मटकी न गिराओ,
मटकी जो गिर गई तो दूध ढुल जाएगा,
सैयां छोड़ो बैयाँ-2 ||

गाँव बरसाने मुझको जाना है,
सांझ को लौट कर घर आना है,
देर भई तो सासू मारेगी,
और सखियाँ भी ताना मारेंगी || सैयां ||

मुझको छेड़ो न मैं अकेली हूँ,
तेरी राधा की मैं सहेली हूँ,
रात दिन तेरा नाम लेती हूँ,
तेरी मुरली पे जान देती हूँ || सैयां ||

जाने क्या जादू दिल पे डाला है,
नाचे मुरली पे गोपी ग्वाला है,
उनके चरणों में ध्यान लागा है,
"पदम्" ह्रदय में ज्ञान जागा है || सैयां ||

-:इति:-


Share:

Friday, January 26, 2018

Ganraja Pyaare Aa Jao Naa

तर्ज :- मेरा दिल अब तेरा ओ साजना 
फिल्म :- दिल अपना और प्रीत परायी

गणराजा प्यारे आ जाओ ना,
रिद्धि सिद्धि को संग लेके आजाओ ना ||

याद करूं मैं आज सभा में शिव शंकर का प्यारा,
नाव फंसी है बीच भँवर में मुझको तेरा सहारा,
मेरी नैया किनारे लगा जाओ ना || गणराजा ||

तेरे दर पे एक सवाली विनती तुम्हें सुनाये,
शरण पड़े की लाज बचालो आया आस लगाये,
लाज महफ़िल में आके बचा जाओ ना || गणराजा ||

ओ गणराजा गुणों के राजा बिगड़ी मेरी बनाओ,
"पदम्" तुम्हारी शरण में आया दिल के बीच समाओ,
ज्ञान बुद्धि का दीपक जला जाओ ना || गणराजा ||

-:इति:-


Share:

Aas Darshan Ki Laaye Hain

तर्ज :- बड़ी दूर से आये हैं प्यार का तोहफा लाये हैं
फिल्म :- समझौता

तेरे द्वार पे आये हैं, आस दर्शन की लाये हैं,
तुम्हे विनती सुनाये हैं, आस दर्शन की लाये हैं |

तुम लाडले गौरा के शिव शंकर के दुलारे,
ज्ञान के सागर बुद्धि के देवन हारे,
गजानंद आप कहाए हैं || आस दर्शन ||

सरताज हैं देवों के रिद्धि के सिद्धि के दाता,
तेरा सवाली कोई खाली नहीं जाता,
दया की भीख लुटाये हैं || आस दर्शन ||

मैं न जानू प्रभु कैसे तुम्हारी वंदना हो,
आज "पदम्" की पूरी कामना हो,
तुम्हारे गुण को गायें हैं || आस दर्शन ||

-:इति:-


Share:

Saturday, January 20, 2018

Mere Hriday Viraajo Shivraaj Re

तर्ज :- आजा तुझको पुकारे मेरे गीत रे

मेरे ह्रदय विराजो शिवराज रे-2
मेरी विपता तारो आज रे || मेरे ||

जानू न कैसे तेरी वंदना हो,
कैसे सफल मेरी आराधना हो,
मैं नादान, दयालु तुम हो आन सवारो काज रे || मेरे ||

तेरी जटों में बहे गंगा की धारा,
शीश पे रोशन रहे चंदा प्यारा,
तीन लोकों के सब देवों में तुम्ही हो सरताज रे || मेरे ||

नंदी पे रहती है तेरी सवारी,
कोई न जाने है माया तुम्हारी,
आज सभा के बीच प्रभुजी राखो "पदम्" की लाज रे || मेरे ||

-: इति :-


Share:

Naache hain Gopiyan Dun Me Mangan

कान्हा की बांसुरी बाजे मधुबन,
नाचे हैं गोपियाँ धुन में मगन ।।

कैसे कटेगी अकेले में रातें,
कान्हा न समझे मुहब्बत की बातें,
यादों में श्याम की तड़पे है मन - 2 ।। नाचे ।।

छोटी सी गउएं छोटे से ग्वाला,
दर्शन को तरसे सभी ब्रज की बाला,
यमुना के तीर पे होगा मिलान - 2 ।। नाचे ।।

मथुरा को जब से गए हैं मुरारी,
"पदम्" यूं पुकारे की सुध लो हमारी,
भूल गए सांवरे करके वचन - 2 ।। नाचे ।।

-: इति :- 


Share:

Wednesday, January 17, 2018

Ro Ro Pukaare Behena

तर्ज :- मैं तो तुम संग प्रीत लगाके हार गयी सजना
फिल्म:- मनमौजी 1962

भैया कन्हैया तुमको सभा में,
रो रो पुकारे बहना - 2 ||

पाँचों पांडव जुये में हारे,
अर्जुन भी बैठे मन मारे,
तुम बिन बिगड़ी कौन सवारे,
सावन भादों बरस रहे हैं मेरे दोई नैना || रो रो ||

घबरा रहा है द्रौपदी का मन,
खींच रहा है चीर दुशासन,
कैसे बचाऊं इनसे दामन,
मैं दुखियारी रो रो हारी लाज मेरी रखना || रो रो ||

श्याम ने पल में चीर बढ़ाया,
कौरव दल का मान घटाया,
तुमने बिगड़ा काज बनाया,
श्याम सुनो यह विनती "पदम्" की,
मन में बसे रहना || रो रो ||

-: इति :-


Share:

Mere Ganraaja Bigdi Bana

तर्ज :- ढपली वाले ढपली बजा 
फिल्म :- सरगम

मेरे गणराजा बिगड़ी बना,
मैंने तुमको पुकारा है || आ ||
तू आके लाज बचा || मेरे गणराजा ||

गौरा के दुलारे भोले शिव के प्यारे भक्तों के तुम हो सहारे,
नैनों में छिपालो अपना बनालो आये हैं दर पे तुम्हारे,
है मूषे सवारी गजानंद तुम्हारी,
मेरे काज आके बनाजा || मेरे गणराजा ||

वेदों में लिखा है सबने पढ़ा है पहले है पूजा तुम्हारी,
ओ ज्ञान दाता बुद्धि विधाता सुन लो जी विनती हमारी,
बसे तुम हो मन में, मैं आया शरण में,
दया का खज़ाना लुटाजा || मेरे गणराजा ||

तेरी शान आली सबसे निराली, दर पे लाखों सवाली,
जो भी है जाता वरदान पाता, आता नहीं कोई खाली,
"पदम्" ने यह जाना है बैरी ज़माना,
यह बंधन से मुक्ति दिलाजा || मेरे गणराजा ||

-: इति :-



Share:

Mooshe Pe Sawaari Karte Huye

तर्ज :- कव्वाली

मूषे पे सवारी करते हुए गौरा के दुलारे आएंगे ,
दर्शन करने को जल्दी चलो शिवराज के प्यारे आएंगे ||

प्रथम गणराज सुमरने से सब काम सफल हो जाते हैं ,
वो दीन दया के सागर हैं भक्तों के सहारे आएंगे || मूषे ||

क्यों धूम मची है महफ़िल में, पूछा यूं किसी दीवाने ने,
हम कहने लगे कि आज यहां गणराज हमारे आएंगे || मूषे ||

रिद्धि सिद्धि के दाता हो तुम सब के भाग्य विधाता हो,
वो नाथ "पदम" के गजधारी दीनों के सहारे आएंगे || मूषे ||


-: इति :-


Share:

Monday, January 15, 2018

Kanha Ho

तर्ज :- मेरी चढ़ती जवानी
फिल्म :- दिल तुझको दिया

मेरी सास लड़ेगी कान्हा हो ----
गागर न फोड़ बैयाँ न मोड़ ||

बरसाने की मैं हूँ नार नवेली,
दध बेचन को निकली अकेली,
सर से गागर गिर पड़ेगी कान्हा हो ---- ||

जुल्मी है तू बड़ा झूठा है छलिया,
मन को लुभाए तेरी बांस की मुरलिया,
यूंही बात बढेगी कान्हा हो  ----||

श्याम घटा से काला गौरी ब्रज बाला,
राधा मोहन का है प्यार निराला,
जोड़ी अमर रहेगी कान्हा हो ---- ||

आज बनादो प्रभु बिगड़ी हमारी,
"पदम्" हैं चरणों में बलिहारी,
तेरी कृपा रहेगी कान्हा हो  ----||

-: इति :-


Share:

Gajanand Aapko Pratham Mera Pranam Ho jaaye

तर्ज:- सनम तू बेवफ़ा के नाम से मशहूर
फिल्म :- खिलौना

गजानंद आपको प्रथम मेरा प्रणाम हो जाये,
दयालु तुम दया करदो सफल हर काम हो जाए ||

जहाँ के देवताओं का तुम्हे सरताज कहते हैं,
हैं दाता रिद्धि सिद्धि के तुम्हे गणराज कहते हैं,
तुम्हारी वंदना करने से शुभ अंजाम हो जाए || गजानंद ||

दुलारे गौर माता के पिता हैं भोले अविनाशी,
मेरे मन की प्रभु अखियाँ तेरे दर्शन की हैं प्यासी,
तुम्हारी राह में बैठे सुबह से शाम हो जाए || गजानंद ||

ओ दाता तुमसे विनती है मेरी बिगड़ी बना देना,
सवाली जाये न खाली "पदम्" की झोली भर देना,
हमारा काम हो जाए तुम्हारा नाम हो जाए || गजानंद ||

-: इति :-



Share:

Namah Shivaay ॐ Namah Shivaay

ओ रे मतवाले शिव को मनाले,
नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय,
बिगड़ी बनाये ॐ नमः शिवाय,
विपता हटाये ॐ नमः शिवाय ||

हर हर भोले नमः शिवाय - शंकर भोले नमः शिवाय,
भोले भाले नमः शिवाय - डमरू वाले नमः शिवाय,
ओघड़ दानी नमः शिवाय - शिव वरदानी नमः शिवाय,
गंगा धारी नमः शिवाय - त्रिपुंड धारी नमः शिवाय 
                                           || गले नाग काले ||

ब्रम्हा बोले नमः शिवाय - विष्णु बोले नमः शिवाय,
राम जी बोले नमः शिवाय - श्याम भी बोले नमः शिवाय ,
शारद बोले नमः शिवाय - नारद बोले नमः शिवाय ,
सीता बोले नमः शिवाय - राधा बोले नमः शिवाय
                                            || अँधेरे उजाले ||

धरती बोले नमः शिवाय - अम्बर बोले नमः शिवाय ,
सूरज बोले नमः शिवाय - चंदा बोले नमः शिवाय ,
सावन बोले नमः शिवाय - भादो बोले नमः शिवाय ,
हम तुम बोले नमः शिवाय - "पदम्" भी बोले नमः शिवाय ,
गुणगान गाले शिव को मनाले - नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ||

-: इति :-


Share:

Sunday, January 14, 2018

Kajraare Naino Se Ghayal Kiya

तर्ज :- पल पल न माने टिंकू जिया,
फिल्म :- यमला पगला दीवाना

किशन कन्हैया ने पागल किया - 2
कजरारे नैनों से घायल किया ||

मदन मुरारी से नैना लगे हैं - 2
रातों को हमरे ना नैना लगे हैं - 2
मुरली की धुन सुन के नाचे जिया - 2 || कजरारे ||

राह चलत मोरी बैयाँ मरोड़ी - 2
सर पे रखी मोरी गागरिया फोड़ी - 2
पनियां भरण जाना मुश्किल किया - 2 || कजरारे ||

ग्वालों के संग करते माखन की चोरी - 2
प्रेम दीवानी हैं ग्वालिन की छोरी - 2
मन मोहना को यह दिल दिया - 2 || कजरारे ||

तिरछी है चितवन बांकी अदा है - 2
बांके बिहारी पे दुनिया फ़िदा है - 2
"पदम्" को भक्तों में शामिल किया - 2 || कजरारे ||

-: इति :-


Share:

Pratham Tumhari Vandana Me Tumko Manaya Karte Hain

तर्ज :- क्या करते थे साजना
फिल्म :- लाल दुपट्टा मल मल का

माँ गौरा के लालना हम तुमसे लौ लगाके,
प्रथम तुम्हारी वंदना में तुमको मनाया करते हैं ||

कहते हैं सब तुम्हे बुद्धि विधाता तुम तो हो रिद्धि सिद्धि के दाता,
तुम भक्तों के भक्त तुम्हारे द्वार से कोई खाली न जाता,
कृपा निधि कृपा करो  - विध्न हरण विपता हरो,
यह विनती सुनाया करते हैं || तुमको ||

मूषा सवारी करते हैं देवा लड्डू के भोग लगे चढ़ती है मेवा,
देव तुम्हारे गुणगान गायें संत तुम्हारी करते हैं सेवा,
हम तो बड़े नादान हैं - पूजा धर्म से अज्ञान हैं |
गुणगान किया करते हैं || तुमको ||

हो गज वंदन गिरिजा के नंदन कहलाते हो असुर निकंदन,
मैं आया हूँ शरण तुम्हारी नाथ "पदम्" के काटो बंधन,
अवगुण मेरे चित्त न धरो - बेड़ा भव से पार करो,
हम तुमको जपा करते हैं || तुमको ||

-: इति :-


Share:

Friday, January 12, 2018

Mere Baapu Ka Naara

मेरे बापू का था यही नारा मैं अहिंसा पुजारी रहूँगा |
मेरा हथियार है यह अहिंसा इसी हथियार से मैं लडूंगा ||

हिन्दू मुस्लिम हो या सिख ईसाई,
माँ के बेटे है सब भाई भाई,
तुम अगर साथ मिलकर रहोगे जुल्म का सर झुका कर रहूँगा ||

यही फरमान था सारे जग में,
देश सेवा मैं करता रहूँगा,
ऐ मेरे देश के नौजवानों मैं वतन के लिए जान दूंगा ||

वह जहाँ से गए भी तो क्या है,
नाम उनका अमर है जहाँ में,
"पदम्" शान में बापू जी के लिखते लिखते कलम तोड़ दूंगा ||

-: इति :-


Share:

Cheend Baare Dada Ke Aage

तर्ज :- मैहर की शारदा मैया

शनि डरे भूत भागे,
छीन्द बारे दादा के आगे ||

जो कोई लेत हैं नाम तुम्हारों,
सोई किस्मत जागे || छीन्द ||

सब की आशा पूरी करते,
छल और कपट जो त्यागे || छीन्द ||

रामायण का पाठ करे जो,
दया धरम चित लागे || छीन्द ||

"पदम्" के मन बसे मारुती नंदन,
झोली भरे बिना मांगे || छीन्द ||

-: इति :-


Share:

Thursday, January 11, 2018

Bharat Me Jo Lehrayega Yeh Jhanda Tiranga

पन्द्रह अगस्त हिन्द में हर साल आयेगा।
चारों तरफ जय हिन्द का नारा सुनायेगा ।।
जिस वक़्त शहीदों का लब पे नाम आएगा।
शेखर और भगत सिंह की वह याद लायेगा।।
बापू और दीनदयाल के जग गीत गायेगा।
है नाम अमर दुनिया में न मिटने पायेगा।।
वह जलियों वाला बाग तसब्बुर में आयेगा।
वीरों के खून में हर घड़ी उबाल आयेगा।।

भारत में जो लहरायेगा यह झंडा तिरंगा,
तुफानों से टकरायेगा यह झंडा तिरंगा।।

गरचे हमारी राह में तूफा भी आयेंगें
मां तेरे लाल फर्ज से न मुंह छिपायेंगें,
यह नौजवान सर से कफन बांध के निकले
काटों पे भी दीवाने तेरे चलते जायेंगे,
आंधी में भी फहरायेगा यह झंडा तिरंगा,
तुफानों से टकरायेगा यह झंडा तिरंगा ।। भारत।।

ऐ पाक तूने हिन्द का कहना नहीं माना,
भाई बनाके तूने निभाना नहीं जाना,
यह चाल तेरी लाल बहादुर समझ गया,
जिसने कभी भी सर को झुकाना नहीं जाना,
कश्मीर पर फहरायेगा यह झंडा तिरंगा ।। भारत ।।

-: इति :-





Share:

Jag Me Unsa Dayaalu Koi Nahi

तर्ज:- जिसके सपने हमें रोज़ आते रहे
फिल्म:- गीत 1970

शिव के मंदिर में दीपक जलाते रहो सर झुकाते रहो,
जग में उनसा दयालु कोई तो नहीं - 2 ||

मस्त गंगा जाटों में बहाते हुए,
जा रहे भोले डमरू बजाते हुए,
उनके डमरू पे दिल को लुटाते रहो, गीत गाते रहो || जग ||

उनके दर पे जो कोई सवाली गया,
मिल गयी उसको मुक्ति न खाली गया,
मोह माया में न भरमाते रहो, मुस्कुराते रहो || जग ||

उनके चरणों में जीवन अर्पण करूं,
आरजू है "पदम्" उनके दर्शन करूं,
यूंही मुक्ति का मारग बनाते रहो लौ लगाते रहो || जग ||

-: इति :-


Share:

Kanhaiya Meri Laaj Rakho

तर्ज :- मैं एक नन्हा सा बालक हूँ
फिल्म:- हरीशचंद्र तारामति

पापी झूम रहा साड़ी खींच रहा द्रौपदी की,
लुट न जाये शान कन्हैया मेरी लाज रखो - 2 ||

नीच दुशासन भरी सभा में करना चाहे उधारी,
इस पापी से मुझको बचालो मेरे श्याम बिहारी,
मानूंगी तेरा एहसान || कन्हैया ||

तुम बिन मेरा कौन सहारा कृष्णा मुरलिया वाले,
बिगड़ी बनादो धीर बंधादो नाथ कहाने वाले,
दीनों के भगवान || कन्हैया ||

कृष्ण कन्हैया तुमने जगत में लाखों पापी तारे,
मैं अज्ञानी "पदम्" शरण में आया तेरे सहारे,
दे दो मुझे भी वरदान || कन्हैया ||

-: इति :-



Share:

Ganraja Re Lete Hain Pehle Tera Naam Re

तर्ज :- बनवारी रे जीने का सहारा तेरा नाम रे
फिल्म :- एक फूल चार कांटे

गणराजा रे लेते हैं पहले तेरे नाम रे,
हमरे बिगड़े बनादो सारे काम रे ||

शिव शंकर हैं पिता तुम्हारे मात हैं गौरा रानी,
सब देवों में बुद्धि विनायक यह है अमर कहानी,
हमको प्यारा लगे है तेरा धाम रे || गणराजा रे ||

श्री गणराजा के चरणों में अपना शीश झुकाओ,
रिद्धि और सिद्धि के दाता भव से पार लगाओ,
अब जो भी होगा अंजाम रे || गणराजा रे ||

एक दन्त हो दयावंत हो लेलो खबर हमारी,
गिरिजा नंदन असुर निकंदन "पदम्" चरण बलिहारी,
तेरा नाम जपे सुबह शाम रे || गणराजा रे ||

-:इति:-




Share:

Wednesday, January 10, 2018

Jis Din Bhi Bharat Me Hindi Ko Naman Hoga

तर्ज :- ओठों को छूलो तुम

जिस दिन भी भारत में हिंदी को नमन होगा,
उस दिन उस पल मेरा खुशहाल वतन होगा ||

अंग्रेजों की अंग्रेजी न साथ गयी उनके,
अंग्रेजी को अपनाना हिंदी का पतन होगा || जिस ||

हिंदी है न हिन्दू की हिंदी न मुसलमाँ की,
यह राष्ट्र की भाषा है यही राष्ट्र का धन होगा || जिस ||

कश्मीर की घाटी से जब कन्याकुमारी तक,
घर घर हर दफ्तर में हिंदी का चलन होगा || जिस ||

हिंदी का है पखवाड़ा हर साल मनाते रहें,
यही "पदम्" प्रतिदिन हो ऐसा किस दिन होगा || जिस ||

जब भारत माता को कहते हैं मदर इंडिया,
कब लक्ष्य को पायेंगे कब चैन अमन होगा || जिस ||

-:इति:-



Share:

Miya Yaad Rakhoge Ya Bool Jaoge

तर्ज:- बतादूं क्या लाना
फिल्म:- पत्थर के सनम 1967

महंगाई का ज़माना थोड़ी रकम कमाना,
इसमें है घर चलाना पिया याद रखोगी या भूल जाओगे,
नारी का है ज़माना सौंपो मुझे घराना,
घर पूरी तनखा लाना मिया याद रखोगे या भूल जाओगे ||

जब पहली हो सीधे घर आना एरों गैरों का बिल न चुकाना,
दूध शक्कर लेने मै जाउंगी नाश्ते में हलवा खिलाऊँगी,
दो दिन मज़ा उड़ाना पूड़ी अगर हो खाना,
तुम डालडा ले आना || मियां ||

मुन्ना के लिए पेंट चाहिए, मकानदार को रेंट चाहिए,
फट गयी फ्रॉक छोटी बेबी की पुस्तक भी लाना शीला देवी की,
एक मेरी साड़ी लाना ब्लाउज न भूल जाना,
यह छोटा सा नजराना || मियां ||

इस तरह नहीं हो घर का गुज़ारा परिवार नियोजन का है यही नारा,
जिस घर में एक-दो बच्चे हैं इसमें शक नहीं वह बड़े अच्छे हैं,
अंकुश पड़े लगाना, बेटी को है बचाना
यह "पदम्" का फ़साना || मियां ||

-:इति:- 


Share:

Maa Ko Bhaj Le Arey Pagle

तर्ज :- ( ग़ज़ल ) कोई आये कोई जाए यह तमाशा क्या है,

माँ को भजले अरे पगले तू सोचता क्या है,
भव से तरने का भला और रास्ता क्या है ||

ख़त का मजुबन लिफ़ाफ़े से समझने वालों,
पढ़ के बतलाओ की तक़दीर में लिखा क्या है ||

अपनी बर्बादी पे पलभर हमें रोने न दिया,
वह समझते नहीं रोने से फायदा क्या है ||

ज़ुल्म सहते हैं बहुत लोग उफ़ नहीं करते,
सर उठा कर जियो मर मर के यह जीना क्या है ||

यह महल तूने बनाये हैं बता जिनके लिए,
पहले किसका है बुलावा तुझे पता क्या है ||

लाख चौरासी योनी भोग कर के नर तन पाया,
बड़ा अनमोल है जीवन को समझना क्या है ||

बाद मरने के "पदम्" याद करेगी दुनिया,
इस ज़माने से क्या लिया है और दिया क्या है ||

-:इति :-



Share:

Kehte Hain Chaar Din Ki Teri Hai Zindagaani

तर्ज :- भारत की है कहानी, सदियों से है पुरानी
  (महाभारत टी. वी सीरियल)

भव सागर का रूप हैं यह सारा संसार,
पाप डुबोये भँवर में धर्म उतारे पार,
आइये श्री राम के चरणों में शत शत करें वंदन,
करें वंदन करें वंदन करें वंदन,
श्री राम को सुमरले मोह माया तज के प्राणी,
कहते हैं चार दिन की तेरी हैं जिन्दगानी ।। सिया रामा -3।।

क्या सोचता है मन में आ राम की शरण में,
सब यार हैं मतलब के दुनिया है आनी जानी ।। कहते ।।

चौरासी का सफर है पल की नहीं खबर है,
जीवन का मूल क्या है एक बुलबुला है पानी ।। कहते ।।

यह राम जन्म भूमि जन जन की कर्म भूमि,
मन्दिर वहीं बनेगा हमने भी दिल में ठानी ।। कहते ।।

विनती है यह 'पदम’ की नहीं चाह माल धन की,
दीदार तेरा पाऊं हो जाये मेहेरबानी ।। कहते ।।

-: इति :-



Share:

Ganga Teri Jaton Me Behti Sheesh Pe Chanda Aala

गंगा तेरी जटों में बहती शीश पे चन्दा आला,
वह सब देवों में भोला है नाम है भोला भाला ।

तन पे ओढ़े हैं मृग छाला नन्दी पर असबार,
बृम्हा विष्णु सब उनकी माया से पाये हार,
कोई न जाने शिव शंकर की लीला अपरम पार। गंगा।

डमरू बजा कर नाच रहे हैं वह शिव शंकर भोले,
गांजा पीवे पियें धतुरा खाए भांग के गोले,
नाच तुम्हारा देख देख कर इन्दर का मन डोले । गंगा

मूँह माँगा वरदान लुटाये भोले शिव करतार,
खाली ना जाए कोई सबाली ऐसो है दरबार,
मिलेगी मुक्ति "पदम्" को आजा कैलाशी के द्वार । गंगा

-: इति :-


Share:

Sunday, January 7, 2018

Draupadi Kehne Lagi Krishna Bhaiya Se


तर्ज :- कव्वाली

द्रोपदि कहने लगी कृष्ण भैया से यूं,
चीर खीचे दुशासन गजब हो गया,
पापी के हाथों से एक अबला का यूं,
नग्न होता है यौवन गजब हो गया।।

 पांचो पांडव जुए में मुझे हार कर,
आज बैठे हुए हैं यह मन मार कर,
तेरी बहना की अस्मत लुटी जा रही है,
सामने बैठे अर्जुन गजब हो गया ।। द्रौपदी ।।

जबकि प्रहलाद ने ध्यान तेरा किया,
खम्ब से तुमने उसको बचा ही लिया,
लाज मेरी कन्हैया तेरे हाथ है,
बड़ा व्याकुल है यह मन गजब हो गया ।। द्रौपदी ।।

वह सभा में खड़ी द्रौपदी रो रही है,
अश्रु धारा से वह अपना मुख धो रही है,
इस तरह तुमसे रो रो के विनती करे,
ज्यो बरसता है सावन गजब हो गया।। द्रोपदि।।

खींचते खींचते  जब दुशासन थका,
दुष्ट द्रोपदि नग्न फिर भी कर न सका,
धीर मन को हुआ सोचा द्रोपदि ने यूँ,
अा गया मेरा मोहन गजब हो गया ।। द्रोपदि।।

लाख चौरासी के नर का जीवन मिले,
किस तरह से कन्हैया का दर्शन मिले,
मुरली वाले के चरणों में हमने "पदम्"
ज़िन्दगी कर दी अर्पण गजब हो गया ।। द्रौपदी ।।

-:इति :-

Share:

Gaura Maiya Ke Gajanand Laadle

तर्ज :- मेरी माई के बुंदेला लाडले हो माँ (जस)

गौरा मैया के गजानंद लाडले हो माँ,
तुम्हे पूजे सब संसार  || भवानी || गौरा मैया के ||

शंकर सुमन भवानी के नंदन,
मोह माया के काटो बंधन,
कर दइयो उपकार  || भवानी || गौरा मैया के ||

ध्यान धरुं देवा गणपति को,
आस करूं दइयो बुद्धि को,
दया करो दातार  || भवानी || गौरा मैया के ||

चार भुजा धारी गनराजा,
आजा बिगड़े काज बनाजा,
मुषे पे असवार  || भवानी || गौरा मैया के ||

"पदम्" सुमर तुमरे जस गाऊँ,
गुड़ के मोदक भोग लगाऊं,
कर लइयो स्वीकार  || भवानी || गौरा मैया के ||

-: इति :-


Share:

Saturday, January 6, 2018

Hari Om Naam Ka Sumiran Karle

तर्ज :- जहां डाल डाल पर सोने को चिड़िया करती बसेरा
फिल्म - सिकंदर-ए-आज़म

हरि ॐ नाम का सुमिरन करले मन का मिटे अंधेरा,
जग चिड़िया रैन बसेरा, जग चिड़िया रैन बसेरा ||

जब लख चौरासी भोग लिया तब तूने नर तन पाया || हरि ॐ ||
किया कोल गर्म में माता के उसको तूने विसराया - 2
यूं छल ओर कपट में खर्च हुआ अनमोल रतन धनतेरा || जग ||

इसे आना है उसे जाना है दुनिया है मुसाफिर खाना || हरि ॐ ||
जिस दिन पिंजरा खुल जायेगा इस पंछी को उड़ जाना -2
सब ठाठ पड़ा रह जाएगा न तेरा है न मेरा || जग ||

यह "पदम" फंसा है भव सागर में नैया डगमग डोले || हरि ॐ ||
नहीं कोई सहारा दूर किनारा ओ शिव शंकर भोले -2
प्रभु दया करो सब पाप हरो चरणों मे डाला डेरा || जग ||

-: इति :-


Share:

Bhole Baba Ko Ab Pranam Kiya Jaye

तर्ज :- मार दिया जाए छोड़ दिया जाए
फ़िल्म :- मेरा गाँव मेरा देश

ध्यान किया जाए , गुणगान किया जाए,
भोले बाबा को अब प्रणाम किया जाए ||

तेरी पूजा तेरी वंदना क्या है,
भोले बाबा की आराधना क्या है,
मैं ना जानू तेरी साधना क्या है,
मान किया जाए फिर सम्मान किया जाए || भोले ||

शान जग से निराली तुम्हारी है,
तुमने भक्तों की विपता को टारी है,
नंदी पर आपकी ही सवारी,
ज्ञान लिया जाए वरदान लिया जाए || भोले ||

शीश पर उनके गंगा की धारा है ,
कर में डमरू और त्रिशूल न्यारा है,
"पदम" भक्तोँ का वह सहारा है,
नाम लिया जाए दिल थाम लिया जाए || भोले ||


-: इति :-

Share:

Jai Jai Bolo Shree Ram ki

तर्ज :- गड्डी चली है छलांगा
फ़िल्म :- दादा


करो तैयारी अयोध्या धाम की,
जै जै बोलो श्री राम की,
छोड़ो आपस की तकरार हिन्दू हो जाओ तैयार ,
अब कसम है तुम्हें राम की || जय जय बोलो श्री राम की ||


राम शिलायें बुला रही है राम के दीवानों को,
बजरंग दल और शिवसेना के बाँके मर्दानों को,
विश्व हिन्दू परिषद का बस एक है मकसद,
आरज़ू है मंदिर निर्माण की  ||


कितने राम के दीवानों ने अपना खून बहाया,
राम का नाम ले एक भगत ने झंडा जब फहराया,
उसकी भक्ति महान देखे सारा हिंदुस्तान,
यह तो महिमा है प्रभु के नाम की ||


राम जन्म की भूमि पर अब राम का मंदिर होगा,
इस मंदिर की छटा देख कर स्वर्ग निछावर होगा,
गूंजे राम की जयकार, ढोल मंजीरों की झंकार,

"पदम" आरती हो सुबह शाम की ||

-: इति :-

Share:

Insaan Hain Par Insaan Nahi

तर्ज :- कव्वाली

बेईमान हैं यह क्योंकि मेरे ईमान के दुश्मन बैठे हैं,
इंसान हैं पर इंसान नही इंसान के दुश्मन बैठे हैं ||

पहले तो हमें अपना कहकर धोके में हमको डाल दिया ,
अब सामने वो इस तरह से मेहमान के दुश्मन बैठे हैं ||

पांचों भाई लाचार हुए द्रौपदी की बाज़ी हार गए ,
बेचारी अबला द्रौपदी की  यह शान के दुश्मन बैठे हैं  ||

सोचा न "पदम" उस पापी ने द्रौपदी है मोहन की बहना ,
आखिर में पड़ी मुंह की खानी जो भगवान के दुश्मन बैठे हैं ||

-: इति :-
Share:

Bhola Nath Nirala

तर्ज - मेरा प्यार भी तू है यह बहार भी तू है
फिल्म- साथी 1968

भोला नाथ निराला सारे देवों में आला,
डाले गर्दन में नागों की माला,
गंगा धारी है त्रिपुरारी है 


अंग भवुती है तन मृग छाला, नंदी पर बैठे कैलाशी,
हाथ में डमरू बाज रहा है, शीश पे चंदा है अविनाशी,
हैं घट के वासी । भोला

भस्मासुर को कंगन दीना रावण को लंका दे डाली,
मुंह माँगा वरदान लुटाकर, पर्वत शिव ने धूनी रमाली,
क्या है माया निराली । भोला

नर तन जग में तूने पाया ना कर मूरख तू नादानी,
उनके दर से मांगले मुक्ति, मेरे भोले हैं वरदानी,
कह गए "पदम्" यूँ ज्ञानी । भोला

-: इति :-

Share:

Wo hain Bade Gyani Devon Ke Sartaj

तर्ज : - जा रे कारे बदरा 
फिल्म :- धरती कहे पुकार के 

मुषे अलबेला विराजे गणराज,
वो हैं बड़े ज्ञानी देवों के सरताज 


कहते हैं उनको उमा के दुलारे,
वो हैं भोले बाबा की आँखों के तारे,
बिगड़ी बनायें बचाएं वो ही लाज । वो हैं

सभी देवताओं से पहले मनाएं,
ऋषि और मुनि उनके गुणगान गायें,
बड़ी शान बोले सुरों के महाराज । वो हैं

संग में हैं उनके रहें रिद्धि सिद्धि,
भजले "पदम्" तो मिले ज्ञान बुद्धि,
उनकी दया से बनेंगे सब काज । वो हैं

-: इति :-


 
Share:

Friday, January 5, 2018

Janamdin Tumhara Manate Hain Hum

तर्ज :- बहुत प्यार करते हैं
फिल्म:- साजन

जनम दिन तुम्हारा मनाते हैं हम,
नेहा तुम्हारी न हों खुशियाँ कम 

मम्मी की आँखों का तारा बनोगी,
पापा के दिल का सहारा बनोगी,
परियां भी गुड़िया के चूमे कदम । जनम

चाचा और चाची देते दुहाई,
मामा और मामी ने आशा लगायी,
करे नाना नानी के नाक में दम । जनम

काजल लगा दो नज़र लगे ना,
जहाँ भी रहे तू सदा मुस्कुराना,
तेरी ज़िन्दगी से रहे दूर गम । जनम

दादा और दादी की ममता मिलेगी,
जीवन में तुमको सफलता मिलेगी,
सदा खुश रहो ये दुआ है "पदम्" । जनम

-: इति :-

Share:

Ek Saal Hi Beet Gaya Naya Saal ke Aane Me

तर्ज : - ओठों को छूलो तुम
फिल्म:- प्रेम गीत

एक साल ही बीत गया नई साल के आने में,
सब लोग हैं दीवाने यहां खुशियां मनाने में।

नया साल का स्वागत है, नया साल हो मंगलमय,
है मस्त युवा पीड़ी कहीं नाचने गाने में।

नया साल मुबारक हो, नया साल हो सुखदायी,
जन जन को राह मिले मंजिल को पाने में

कुछ लोग पुराने हैं कुछ लोग नये आये,
मुन को सुख मिलता है यूंही मिलने मिलाने में।


फिर से न हो बरबादी सुनामी लहरों से,
सुख चैन अमन बरसे अब ‘पदम’ जमाने में।

-: इति :-

Share:

Thursday, January 4, 2018

Ram Tera Beda Lagaenge Paar

तर्ज :- एक दो तीन चार पांच छे
फिल्म :- तेज़ाब

एक श्री राम सांचा लगे रे मोहे,
और दुजा नाम झूठा लगे,
आओ करें निस दिन जयकार,
राम तेरा बेड़ा लगाएंगे पार।

इनकी शरण में जो अइबे नही,
जीवन सफल हुइबे नही,
है ऐसी माया श्री राम की,
पानी मे पत्थर भी डूबे नहीं,
गाये तेरी महिमा संसार । राम

पहुँचे थे गंगा किनारे हरी,
केवट ने आने में देरी करी,
बोला तुम्हारे है चरणों में क्या,
पत्थर की सिल्ला भी नारी बनी,
पहले लूँगा पैंया पखार । राम

गोते लगाये है गंगा जमन,
मलमल के धोया है यह तन बदन,
सुन्दर है माटी का पुतला ‘पदम',
भीतर से देखातो काला है मन,
राम नाम मुख से उचार । राम


-: इति :-

Share:

Contributors

Follow by Email

Archives