Thursday, August 30, 2018

Woh Sanam Rooth Jaye To Main Kya Karoon

वह उधर रुख से पर्दा हटाने लगे,
अब कसम टूट जाये तो मैं क्या करूं,
चूम लूँगा खुदा की खुदाई को मैं,
वह सनम रूठ जाये तो मैं क्या करूं ||

गेसू काली घटा नैन कजरा भरे,
इनके जलवों पे कैसे कोई न मरे,
जब मैं कजरारे नैनों से पीने लगा,
यह कदम लड़खड़ाये तो मैं क्या करूं ||

चांदनी रात है चाँद ढलता गया,
आपक हुस्न को देख शरमा गया,
उम्र बारी अकेले न घूमा करो,
कोई दिल लूट जाये तो मैं क्या करूं ||

ज़ुल्फ़ बिखरी तो सावन महीना हुआ,
जिसने देखा पसीना पासीना हुआ,
"पदम्" फूल इतने चमन में खिले,
अब कली रूठ जाये तो मैं क्या करूं ||

-: इति :-


Share:

Mai Hoon Jogi

मैं हूँ जोगी तू है मेरी जोगनिया,
छम छम बाजे तेरी पैजनियां || मैं हूँ ||

चंदा सा है मुखड़ा तेरा, गेसू कारे कारे रे,
नैना तेरे सावन भादो, थम थम के मति बरसा रे,
जीने न देगी मुझे साज्नियां || मैं हूँ ||

जब से सोलह साल लगो है चाल में मस्ती आई रे,
गाल गुलाबी ओंठ रसीले, काहे को ले अंगड़ाई रे,
चाल चले है जैसे नागनियां || मैं हूँ ||

एक नज़र तू जिस पर डाले, मन को चैन न आये रे,
वह दीबाना करबट बदले, रात को नींद न आये रे,
काहे "पदम्" पे डाले मोहनियां || मैं हूँ ||

-: इति :-


Share:

Tere Kajre Ne Le Li Meri Jaan

भवें कटारी, पलकें कारी, नैना तीर कमान,
तेरे कजरे ने लेली मेरी जान ||

सोलह तेरी लागी उमरिया,
क्यों बल खाए पतली कमरिया,
गाल गुलाबी नैना शराबी, छलके है अरमान || तेरे ||

चंदा सा है मुखड़ा तेरा,
दीवाना है जियरा मेरे,
तिल है तेरा, दिल है मेरा, गौरी तू पहचान || तेरे ||

सावन भादों बरसे अखियाँ,
तेरे दरश को तरसे अखियाँ,
गेसू प्यारे कारे कारे, जुल्फें विष की खान || तेरे ||

तू गौरी में तेरा सैयां,
आजा मेरी थामले बैयां,
आये न आये क्यों शरमाये "पदम्" की दिलबर जान || तेरे ||

-: इति :-


Share:

Luv Kush Ji Ke Charno Me

------ तर्ज:-होठो को छूलो तुम ------
------ फ़िल्म:-प्रेम गीत ------

।।लव कुश जी का भजन।।

लवकुश जी के चरणों मे,
श्रद्धा से नमन करलो।
आराध्य हमारे है,
पूजन अर्चन करलो।।लव।।

 (१)कुशवाहो के वंशज है,
रघुकुल के स्वामी है।
सुंदर है युगल जोड़ी,
सत के पथ गामी है।
ये समाज फले फूले
इनका सिमरन करलो।।लव।।

(२)ममता मयी सीता के,
आँचल की छाँह मिली,
वन वन बीता बचपन,
भक्ति की ज्योति जली।
श्री राम प्रभु जी की,
छवि के दर्शन करलो।।लव।।

(३)श्री बाल्मीक जी से,
शिक्षा का दान मिला।
शत्रु पे विजय पाना,
रन क्षेत्र का ज्ञान मिला।
गुरुवार की किरपा का,
मन से चिंतन करलो।।लव।।
(४)लव कुश जैसा कोई,
ना वीर ना बलशाली।
जब यज्ञ का अश्व मिला,
हुआ युद्ध विजय पाली।
वेदों में लिखी महिमा,  
जनजन चिंतन करलो।।लव।।

(५)हो जाये सफल जीवन,
ये जतन हमारा हो।
गुणगान "पदम"गाये,
प्रभु संग तुम्हारा हो।
भव से तर जायेगे,
लवकुश के भजन करलो।लव

  ।।इति।।

लवकुश भगवान की जय।।
हिन्दू धर्म की जय।।
गौ माता की जय।।
भारत माता की जय।।


Share:

Tuesday, August 28, 2018

Dil Ko Nazron Se Pilado

दिल को नज़रों से पिला दो तो बहल जायेंगे,
लगे ठोकर तो वह गिर गिर के संभल जायेगा ||

मेरे महबूब जो तू बेनकाब आ जाये,
रंग मेहरबान दो घड़ी में बदल जायेगा ||

इस तरह ज़ुल्फ़ को बिखरा के चमन में न फिरो,
सपेरा बीन को लेकर के निकल आयेगा ||

मेरे सीने में हैं अंगारे मुहब्बत यारों,
इससे लिपटेगा वह पानी सा पिघल जायेगा ||

मेरे पैमाने से कमज़र्फ जरा दूर रहो,
बर्ना हाथों से मेरा जाम फिसल जायेगा ||

अपनी धड़कन से जबानी को दबाये रखना,
दिले नादां है जो सीने से निकल जायेगा ||

ऐ मेरी जाने "पदम्" यूं न सितम बरसाओ,
दिल है दीबाना अदाओं पे मचल जायेगा ||

-: इति :-


Share:

Kaise Mile Hamre Saiyaan

कैसे मिले हमरे सैंया बताओ गुइयां,

पकरन चाही मैं पकर न पायी,
दे गए छील विलैयां || बताओ ||

वाघर की मैं जानत नैया,
कैसे धरूं दोई पैयां || बताओ ||

तेरे बलम की कौन निशानी,
इनमें एकउ नैयां || बताओ ||

जब से गए तो अब घर आये,
हो गए मूड़ हिलैयां || बताओ ||

"पदम" कहत हैं सुन भई रसिया,
जा सुधरन की नैया || बताओ ||

-: इति :-


Share:

Kisi Gulshan Ki Tu

किसी गुलशन की तू चम्पाकली मालूम होती है,
ओ जाने मन तू नाजों की पली मालूम होती है ||

नाज अंदाज से तू दिलजली मालूम होती है |

किसी भी मनचले द्वारा छली मालूम होती है |

अदा भोली तेरी सूरत भली मालूम होती है |

तेरा कूंचा तो जन्नत की गली मालूम होती है |

जवानी भी बुढ़ापे में ढली मालूम होती है |

-: इति :-


Share:

Dangal Me Aaj Bacha Jaan Bhai

------ तर्ज:- आधा है चन्द्रमा रात आधी ------

दंगल में आज बचा जान भाई, बचा प्राण भाई,
नहीं देवी पे चढ़ा दूंगा बलिदान भाई, बचा प्राण भाई ||

देख खंजर मेरा लपलपाये, नहीं गुस्सा जिगर में समाये
तुझे भेजूं शमशान अरे सुनले शैतान,
भला चाहे तो कहना मेरा मान भाई || बचा प्राण भाई ||

युद्ध तुझसे करूंगा मैं रण में, नाश कुल का तेरा कर दूं छण में,
सुनले दुश्मन अज्ञान मति बन रे नादान,
तेरा मिट जाये नामों निशान भाई || बचा प्राण भाई ||

कभी दंगल में आके न फंसना अब "पदम्" के निशाने से बचना,
मारे ज्ञानों की मार देवे पल में पछाड़,
मुझे अच्छी तरह से पहचान भाई || बचा प्राण भाई ||

-: इति :-


Share:

Wednesday, August 22, 2018

Ho Mubarik Janam Din Tumhar

हो मुबारिक जनम दिन तुम्हार बाबा,
फूलो फलो दुआ है हमार बाबा ||

बहना ने रोली का टीका लगाया,
की आरती घी का दीपक जलाया,
ले ली बलैयां हज़ार बाबा ||

पापा कहें तुम मेरे लाड़ले हो,
माता कहे तुम बड़े बावले हो,
लल्ला हमारो सुकुमार बाबा ||

दादा और दादी ने दिल से लगाया,
तुम्हें अपनी बाहों में झूला झुलाया,
खुशियाँ मिली बेशुमार बाबा ||

मामा और मामी नें केक मंगाई,
मम्मी ने पहले चखी फिर तुमको खिलाई,
मामा के टपकी है लार बाबा ||

देने बधाई को आये हैं मौसा,
मौसी भी लायी हैं तुमको समोसा,
खालो बड़े हैं मजेदार बाबा ||

बहुत प्यार करते हैं नाना और नानी,
तुमपे निछावर करे जिंदगानी,
तुम हमरे गले का हो हार बाबा ||

भैया दीवाने हैं भाभी दीवानी,
परियों की तुमको सुनायें कहानी,
जीवन में आये बहार बाबा ||

मौके पे आये नहीं दोस्त ऐसे,
मोबाइल से भेजे बधाई संदेशे,
हैप्पी बर्थडे टू यू यार बाबा ||

तुम्हें लग न जाए किसी की नजरिया,
"पदम्" गीत गायें तुम्हारी दुअरिया,
लागे तुमको उमरिया हमार बाबा ||

-: इति :-


Share:

Kisi Aur Dar Ke Aage

कोई दिल नहीं की जिसमें जलवा तेरा नहीं है,
किसी और दर के आगे यह सर झुका नहीं है ||

यहाँ आ रहा है कोई, वहां जा रहा है कोई,
दुनिया में आना जाना अब तक रुका नहीं है ||

है इंतज़ार जिनका, ख़त आगया है उनका,
किस रोज़ आ रहे है यह तो पड़ा नहीं है ||

मुझे चाहते हैं कितने मुझको पता नहीं है,
मैं जिसको चाहता हूँ उसको पता नहीं है ||

जो कुछ "पदम्" है तेरा किस्मत की बदौलत है,
जो तुझको न मिला है, रब ने लिखा नहीं है ||

-: इति :-


Share:

Suno Banna Ji

सुनो बन्ना जी अब जिद छोड़ो, मान लो मेरी बात,
बन्नी तो आएगी, चलो लेके बारात ||

पापा के प्यारे हो तुम, मम्मी के लाड़ले हो,
लेकिन दुल्हन के लिए कितने उतावले हो,
सात जनम का बंधन है यह फेरे होंगे सात || बन्नी ||

दूल्हा के दोस्त सारे सज धज कर जायेंगे,
दूल्हा के आगे आगे नाचेंगे गायेंगे

दादाजी, काकाजी कबसे तैयार हैं,
फूफाजी जीजाजी बड़े बेक़रार हैं,
सभी बाराती ख़ुशी में झूमे एक दूजे के साथ || बन्नी ||

सज धज के दुल्हे राजा घोड़ी पे जायेंगे,
डोली में चंदा जैसी दुल्हन को लायेंगे,
प्यारी बहना करे आरती, भैया दो सौगात || बन्नी ||

गाड़ी के दो पहिये हैं मिलकर चलोगे,
दिन दुगना रात चौगना फूलो फलोगे,
"पदम्" ने दूल्हा और दुल्हन को दिया है आशीर्वाद || बन्नी ||

-: इति :- 



Share:

Yug Badle Duniya Badli

युग बदले, दुनिया बदली, मानव की आस्था बदल गयी,
हम बदले, तुम भी बदले, घर घर की व्यवस्था बदल गयी ||

शूर वीर योधाओं की परिभाषा आज निराली है,
कट्टा उस्तरा जेब में है, तो वही वीर बलशाली है,
आला और उदल के हथियारों की गाथा बदल गयी || हम ||

पति मृत्यु पर सती होने के किस्सों ने मुँह मोड़ लिया,
घासलेट ने चन्दन चिता के दस्तारों को तोड़ दिया,
पति के हाथों सती जल गयी, सती की प्रथा बदल गयी || हम ||

पिता हो गए डैड, मम्मी को मौम बनाया है,
लड़का, लड़की समझ न आते, फैशन कैसा आया है,
"पदम्" आज तो चरण छूने की सारी व्यथा बदल गयी || हम ||

-: इति :-


Share:

Maa Ki Sharan Jo Aaega

------ तर्ज:- जो बोएगा वही पायेगा ------
------ फिल्म:- जैसी करनी वैसी भरनी ------

माँ की शरण जो आयेगा,
भव सिंधु से वह तर जायेगा,
माँ जग जननी माँ दुःख हरणी ||

ऊंचे पर्वत पर है मैया तेरा बसेरा,
आये जिसका बुलावा, पाए दर्शन तेरा,
क़िस्मत वालों को मिलता है, तेरे दर का डेरा,
जो मांगेगा वही पायेगा || भव सिन्धु से ||

तेरे भुवन पे मैया लाल ध्वजा लहराए,
आदि शक्ति भवानी महिमा वरणी जाए,
भक्तों के संकट हरने को शेर पे बैठी आये,
मैया के जो गुण गायेगा || भव सिन्धु से ||

माँ का प्यार दीवाना, माँ की ममता दीवानी,
निर्मल मन है जैसे गंगा जमुना का पानी,
माँ की सेवा पूजा करले पदम् कर नादानी,
श्रद्धा सुमन जो बरसायेगा || भव सिन्धु से ||

-: इति :-


Share:

Laal Dhwaja Fehraye Ho


 लाल ध्वजा फेहराये हो मोरी मैया के भुवना -2
लहर लहर लहराए हो मोरी मैया के भुवना ||

लाल चूड़ी लाल ही बिंदिया, लाल वरण पे लाल चुनरिया,
चूनर में गोटा जड़ाये हो || मोरी ||

लोंग इलायची के बीड़ा लगाये, चंपा चमेली के हार बनाये,
लाल अनार चड़ाए हो || मोरी ||

लाल गुलाल से लाल भये हैं, लाल तुम्हारे निहाल भये हैं,
मैया के रंग रंग आये हो || मोरी ||

ज्योति करे जग में उजियारो, इक साचों है द्वार तुम्हारो,
सांच को आंच आये हो || मोरी ||

माँ जग जननी, माँ कल्याणी , आदि शक्ति आदि भवानी,
महिमा वरणी जाए हो || मोरी ||

पदमसुमर मैया तोरे जस गायें, इन चरणों में ध्यान लगायें,
गीत सुमन बरसाए हो || मोरी ||

-: इति :-



Share:

Contributors

Follow by Email

Archives