Tuesday, August 28, 2018

Dangal Me Aaj Bacha Jaan Bhai

------ तर्ज:- आधा है चन्द्रमा रात आधी ------

दंगल में आज बचा जान भाई, बचा प्राण भाई,
नहीं देवी पे चढ़ा दूंगा बलिदान भाई, बचा प्राण भाई ||

देख खंजर मेरा लपलपाये, नहीं गुस्सा जिगर में समाये
तुझे भेजूं शमशान अरे सुनले शैतान,
भला चाहे तो कहना मेरा मान भाई || बचा प्राण भाई ||

युद्ध तुझसे करूंगा मैं रण में, नाश कुल का तेरा कर दूं छण में,
सुनले दुश्मन अज्ञान मति बन रे नादान,
तेरा मिट जाये नामों निशान भाई || बचा प्राण भाई ||

कभी दंगल में आके न फंसना अब "पदम्" के निशाने से बचना,
मारे ज्ञानों की मार देवे पल में पछाड़,
मुझे अच्छी तरह से पहचान भाई || बचा प्राण भाई ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives