Monday, August 20, 2018

Tere Dwar Khade Hain Bhakt Bhakt

------ तर्ज:- तू चीज़ बड़ी है मस्त मस्त ------
------ फिल्म:- मोहरा ------

तेरे द्वार खड़े हैं भक्त भक्त,
नहीं तुम सा कोई और और - तेरा दर है मेरा ठौर ठौर,
चरणों में लगी - चरणों में लगी है डौर डौर - तेरी धून में हो गए मस्त मस्त ||

लाल वरण है मेरी माँ भोली,
भर देती है माँ सबकी झोली,
धरती को हरने भार भार,
दानव को तुमने मार मार,
काली का ले..... काली का ले अवतार धार,
खप्पर से पी गयी रक्त रक्त || तेरे ||

बोल ज़रा तू माँ के जयकारे,
भव सागर से माँ पार उतारे,
केसर की महके गंध गंध,
मुस्काए मैया मंद मंद,
यह पदम् लिखे....यह "पदम्" लिखे नए छंद छंद,
तेरा ध्यान धरे हर बक्त बक्त || तेरे ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives