Friday, March 31, 2017

Hari Naam Sumar Bande

------ तर्ज - होंठों को छूलो तुम मेरा गीत अमर कर दो ------
------ फिल्म   - प्रेमग्रंथ ------

हरी नाम सुमर बन्दे हर दुःख टल जाएगा,
भक्ति और मुक्ति का मार्ग मिल जाएगा । ।

तन कोमल मन चंचल धन का अभिमान न कर,
यह चढ़ता सूरज है एक दिन ढल जाएगा             । ।  हरी । ।

रिश्ते नाते परिजन मतलब के साथी हैं,
यह  भेद किसी दिन तो खुद ही खुल जाएगा        । ।  हरी । ।

यह दौलत यह शोहरत कुछ काम नहीं आए,
जैसा तू बोएगा वैसा फल पाएगा                         । ।  हरी । ।

आया है कहाँ से तू जाएगा किधर बतला,
रोता हुआ आया है, रोता कल जाएगा           । ।  हरी । ।

हर एक मन मंदिर में भगवान की मूरत है,
मन की अखियों से "पदम्" दर्शन मिल जाएगा    । ।  हरी । ।


                                                                         
                                                                          -: इति :-
Share:

Gannayak Ganraja Ab Hum Par Daya Kardo

------ तर्ज - होंठों को छूलो तुम मेरा गीत अमर कर दो ------
------ फिल्म   - प्रेमग्रंथ ------

। ।  श्री गणेश वंदना  । ।

गणनायक गणराजा अब हम पर दया कर दो ,
प्रथम तुम्हे  नमन करें नए गीत नए सुर दो । ।

गिरजा के नंदन हो तुम असुर निकंदन हो,
देवों में गजानंद हो भक्ति का हमे वर दो । । गणनायक । ।

तुम जिसपर कृपा करते भण्डार वहां भरते,
मंगल के स्वामी हो, भक्तों के दुःख हर दो     । । गणनायक । ।

रिद्धि और सिद्धि के संग नाथ चले आओ,
आदर से बैठालूँ तुम्हे ऐसा मन मंदिर दो        । । गणनायक । ।

जिस राह पे "पदम्" चले सत ज्ञान के दीप  जले,
यह छोटा सा नज़राना झोली में मेरे भर दो     । । गणनायक । ।


-: इति :-


Share:

Wednesday, March 29, 2017

Shree Gurudev Ko Naman

------- तर्ज - बहुत  प्यार करते हैं तुमको सनम ------
------ फिल्म - साजन ------

। ।  श्री गुरुदेव को नमन  । ।

गुरु को नमन पहले करते हैं हम ,
गुरु ब्रम्हा विष्णु हैं शिव सुंदरम। 

पिता और माता ने पैदा किया है,
गुरुदेव ने मार्गदर्शन दिया है,
ऋणी हम रहेंगे जनम हर जनम     । । गुरु । ।

गुरु के बिना मेरा ज्ञान है अधूरा ,
मेरी पाठ पूजा ध्यान है अधूरा,
गुरु के बिना मन का ना टूटे भरम  । । गुरु । ।

सच्चाई के पथ पर आगे बढ़ेंगे,
आदर गुरूजी का करते रहेंगे,
चरण उनके छूने में कैसी शरम     । । गुरु । ।

प्रति वर्ष गुरु पूर्णिमा हम मनाते,
'पदम्' गुरु के चरणों में मस्तक नबाते ,
गुरु की दया हो तो न बहके कदम  । । गुरु । ।



-: इति :-
Share:

My Family

























Share:

Monday, March 27, 2017

About Author


नाम       -  श्री डाल चन्द कुशवाह
आत्मज   -  स्वर्गीय श्री फूलचन्द कुशवाह



पारिवारिक विवरण 
      
               - श्री डाल चन्द कुशवाह
पत्नि        -  श्रीमती गुलाब  कुशवाह 
पुत्र          - मनोज कुशवाह, पुत्र वधु -  सीमा कुशवाह 
पोते         - प्रियंक कुशवाह एवं 
               - ऋषि कुशवाह  


जन्म एवं शिक्षा 

श्री डाल चन्द कुशवाह  का जन्म 02 अकटूबर 1943 को मध्य  प्रदेश की राजधानी भोपाल हुआ |
इन्होंने हायर सेकंडरी उत्तीर्ण कर आई. टी. आई. अपनी तकनीकी शिक्षा के रूप में सन 1963 में उत्तीर्ण की |


शासकीय सेवा  (27-03-1963 to 31-10-2003 )

इन्होंने वरिष्ठ तकनिकी सहायक  पद पर मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय तकनीकी  संस्थान भोपाल को 27-03-1963 से सेवा प्रदान की एवं 31-10-2003 को अपने कार्य  से सेवानिवृत्त हुए |


रुचियाँ 

हारमोनियम वादन 
भजन एवं गीत लेखन 
गायकी 

मित्रगण 

हेमंत कुशवाह 
गजेंद्र आचार्य
सुरेश बाथम 
मनोज गुप्ता 
जगदीश प्रसाद सैनी 
बिष्नु विश्वकर्मा 
बाला प्रसाद शर्मा 
पुरुषोत्तम शर्मा 
गणेश भाई 
मोहन श्रीवास्तव
राकेश  विश्वकर्मा 
प्रदीप कुशवाह 
मुकेश साहू 
सुनील त्रिपाठी 
सूर्य भाई 
काली चरण 
सतीश कनोजिया 
सतीश दुबे 
अंकित गुप्ता
अनूप ठाकुर 
ओम प्रकाश कुशवाह 
वृन्दावन मेहरा  
देव मेहरा 
जे पी शर्मा  
राजेश मालवीय 
पवन शर्मा 
राजू भाग्या 
मोती सिंह मस्ताना 
धर्मेंद्र भाई 
जगदीश विश्वकर्मा 
Share:

Contributors

Follow by Email