Saturday, December 30, 2017

Gajanand Tumhari Sharan Chahiye

तर्ज - दीवाने हैं दीवानों को न घर चाहिए
फिल्म - ज़ंजीर

सबाली हूँ। सबाली को ना फन चाहिये न धन चाहिये,
गज़ानन्द तुम्हारी शरण चाहिये - 2 ।

कोई रिद्धि सिद्धि के दाता कहें - 2,
कोई ज्ञान बुद्धि विधाता कहें - 2,
तुम्हारे गुण गायें ऐसा मन चाहिये न धन चाहिये । गजानन्द।

माँ गौरा की आँखों के तारे हो तुम - 2,
पिता भोले शिव को दुलारे हो तुम – 2,
गुणों के गणराजा के भजन चाहिये न धन चाहिये । गजानन्द।


करू में तुम्हारी प्रथम वन्दना - 2,
यह सच है ना जानू तेरी साधना - 2,
‘पदम’ को तेरी भक्ति की लगन चाहिये न धन चाहिये । गजानन्द ।

-: इति :-

Share:

Krishna Bhaiya Dushasan Udhari Kare

तर्ज :- गंगा मैया में जब तक की पानी रहे
फिल्म:- सुहागरात 1968

कृष्ण भैया दुशासन उधारी करे,
तेरी बहना की पापी खुआरी करे-2
भैया, हो कृष्ण भैया  । । भैया । ।

मेरे स्वामी जुए में हैं हारे, 
ऐसे बैठे हुए मन को मारे,
अब सहारा मिले तो किनारा मिले,
वरना यह लाज पापी हमारी हरे - 2 । । भैया । ।

भक्त प्रह्लाद ने जब बुलाया,
खम्ब से तुमने उसको बचाया, 
ग्राह मारन किया गज का तारन किया,
याद बहना कन्हैया तुम्हारी करे - 2 । । भैया । ।

खींचते खींचते पापी हारा,
आ गया था वहां मुरली वाला,
चीर द्रौपदी बड़ा देखे पापी खड़ा,
"पदम्" सबकी रक्षा मुरारी करे । । भैया । ।

-: इति :-


Share:

Wednesday, December 27, 2017

Hamari Jaan Hai Kurbaan Hindustan Ke liye

चलो मिल कर करें कुछ काम नव निर्माण के लिए,
हमारी जान है कुर्बान हिंदुस्तान के लिए   । । 

उठो अब नौ जवानों हम नया भारत बनायेंगे,
अहिंसा और अमन की क्रांति दुनिया में लायेंगे,
हमारा हर कदम उठेगा जन कल्याण के लिए   । । चलो । ।

हज़ारों मुश्किलें आये तो हम घबरा नहीं सकते,
अगर आंधी भी आ जाये तो हम कतरा नहीं सकते,
हमेशा हम तो हैं तैयार हर तूफ़ान के लिए    । । चलो । ।

शहीदों ने लहू से सींचकर गुलशन सजाया है,
यही तो पाठ लाल वाल पाल ने हमको पढ़ाया है,
"पदम्" जीना है और मरना वतन की शान के लिए    । । चलो । ।

-: इति :-




Share:

Radha Sang Holi Khele Madan Gopal

तर्ज :- जारे कारे बदरा बलमा के द्वार
फिल्म:- धरती कहे पुकार के 

होली आई रंग लाई उड़त गुलाल,
राधा संग होली खेले मदन गोपाल,

रंग भर भर के वो मारे पिचकारी,
बड़ा बेदर्दी भिगाई मेरी साड़ी, 
चोली रंग दीनी मोरो किया बुरो हाल  । ।  राधा  । ।

मै बरसाने की नार नबेली,
रंग न डारो मै आई हूँ अकेली,
तन रंग दियो मोरे रंगे दोई गाल   । ।  राधा  । । 

वो ब्रज गलियों में होली मचाये,
रंग के बदरवा गगन में है छाये,
झूम रहे श्याम "पदम्" नाच रहे ग्वाल  । ।  राधा  । । 

-: इति :-  


Share:

Tuesday, December 26, 2017

Bol Bhola Bol Darshan Dega Ke Nahi

तर्ज :- मेरे मन की गंगा तेरे मन की 
फिल्म :- संगम 


जटों में बहती गंगा, वह भंगिया का दीवाना,
बोल भोला बोल दर्शन देगा की नहीं  । । 

भोला भाला  जग से भोला जाय बसा वीराने में,
आन पढ़ा हूँ राह में तेरी, देर करी क्यों आने में,
दिल लेकर के बदले में, दिल देगा की नहीं । । बोल । ।

जब जब पाप बढ़ा धरती पर तब तुमने अवतार लिया,
दुष्टों का संहार किया है, और भक्तों को तार दिया,
मेरे दिल के मंदिर में तू रहेगा की नहीं  । । बोल । ।

शिव शंकर है नाम तुम्हारा, डमरू बजाने वाले हो,
आज "पदम्" की दाता तुम्ही लाज बचाने वाले हो,
मुझ अज्ञानी को सेवा में लेगा की नहीं  । । बोल । ।


-: इति :-


Share:

Bajrangbali Teri Sena Chali

तर्ज :- लाज मेरी पत रखियो भला


बजरंगबली बजरंगबली तेरी सेना चली बलशाली मतवाली,
बनाने राम का मंदिर, कफ़न को बाँध के सिर पर । ।

जहाँ राम ने जन्म लिया है,
राम लला को बिठा दिया है,
बाबर की जब लंका जली बलशाली मतवाली । । बनाने । ।

बजरंग दल जब आगे बढ़ता,
कुम्भकरण रावण से लड़ता,
तीर चले तलवार चली बलशाली मतवाली  । । बनाने । ।

बन के रहेगा राम का मंदिर,
अब नहीं आएगा सात दिसम्बर,
कहदो, "पदम्" यह गली गली बलशाली मतवाली । । बनाने । ।


-: इति :-


Share:

Contributors

Follow by Email