Wednesday, January 17, 2018

Ro Ro Pukaare Behena

तर्ज :- मैं तो तुम संग प्रीत लगाके हार गयी सजना
फिल्म:- मनमौजी 1962

भैया कन्हैया तुमको सभा में,
रो रो पुकारे बहना - 2 ||

पाँचों पांडव जुये में हारे,
अर्जुन भी बैठे मन मारे,
तुम बिन बिगड़ी कौन सवारे,
सावन भादों बरस रहे हैं मेरे दोई नैना || रो रो ||

घबरा रहा है द्रौपदी का मन,
खींच रहा है चीर दुशासन,
कैसे बचाऊं इनसे दामन,
मैं दुखियारी रो रो हारी लाज मेरी रखना || रो रो ||

श्याम ने पल में चीर बढ़ाया,
कौरव दल का मान घटाया,
तुमने बिगड़ा काज बनाया,
श्याम सुनो यह विनती "पदम्" की,
मन में बसे रहना || रो रो ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives