Thursday, January 11, 2018

Jag Me Unsa Dayaalu Koi Nahi

तर्ज:- जिसके सपने हमें रोज़ आते रहे
फिल्म:- गीत 1970

शिव के मंदिर में दीपक जलाते रहो सर झुकाते रहो,
जग में उनसा दयालु कोई तो नहीं - 2 ||

मस्त गंगा जाटों में बहाते हुए,
जा रहे भोले डमरू बजाते हुए,
उनके डमरू पे दिल को लुटाते रहो, गीत गाते रहो || जग ||

उनके दर पे जो कोई सवाली गया,
मिल गयी उसको मुक्ति न खाली गया,
मोह माया में न भरमाते रहो, मुस्कुराते रहो || जग ||

उनके चरणों में जीवन अर्पण करूं,
आरजू है "पदम्" उनके दर्शन करूं,
यूंही मुक्ति का मारग बनाते रहो लौ लगाते रहो || जग ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives