Saturday, January 20, 2018

Naache hain Gopiyan Dun Me Mangan

कान्हा की बांसुरी बाजे मधुबन,
नाचे हैं गोपियाँ धुन में मगन ।।

कैसे कटेगी अकेले में रातें,
कान्हा न समझे मुहब्बत की बातें,
यादों में श्याम की तड़पे है मन - 2 ।। नाचे ।।

छोटी सी गउएं छोटे से ग्वाला,
दर्शन को तरसे सभी ब्रज की बाला,
यमुना के तीर पे होगा मिलान - 2 ।। नाचे ।।

मथुरा को जब से गए हैं मुरारी,
"पदम्" यूं पुकारे की सुध लो हमारी,
भूल गए सांवरे करके वचन - 2 ।। नाचे ।।

-: इति :- 


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives