Friday, January 12, 2018

Mere Baapu Ka Naara

मेरे बापू का था यही नारा मैं अहिंसा पुजारी रहूँगा |
मेरा हथियार है यह अहिंसा इसी हथियार से मैं लडूंगा ||

हिन्दू मुस्लिम हो या सिख ईसाई,
माँ के बेटे है सब भाई भाई,
तुम अगर साथ मिलकर रहोगे जुल्म का सर झुका कर रहूँगा ||

यही फरमान था सारे जग में,
देश सेवा मैं करता रहूँगा,
ऐ मेरे देश के नौजवानों मैं वतन के लिए जान दूंगा ||

वह जहाँ से गए भी तो क्या है,
नाम उनका अमर है जहाँ में,
"पदम्" शान में बापू जी के लिखते लिखते कलम तोड़ दूंगा ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email

Archives