Wednesday, February 14, 2018

Wahan Ek Chaliya Muraliya Bajaye

तर्ज:- तुम्हें और क्या दूं मैं दिल क सिवाए
फिल्म:- आई मिलन की बेला

नहीं जाऊं पनघट पे जियरा डराए,
वहां एक छलिया मुरलिया बजाये ||

सखी तू क्या जाने, वह ऐसा है छलिया,
अकेली मुझे देख रोके डगरिया,
मेरी भोली नज़रों से नजरिया लड़ाए || वहां ||

शिकायत करूंगी मैं मैया से जाके,
तेरे कान्हा छेड़े है, पनघट पे आके,
गिराए गगरिया खड़ा मुस्कुराए || वहां ||

कन्हैया तुम्हारी निराली है माया,
पड़ा कष्ट भक्तों पे, तुमने हटाया,
"पदम्" तेरे चरणों में तेरे गीत गाये || वहां ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email