Saturday, February 17, 2018

Radha Sakhiyon Se Boli

तर्ज:- मेरा प्यार भी तू है ये बहार भी तू है
फिल्म:- साथी 1968

  राधा सखियों से बोली, चलो लेकर के टोली,
बरसाने में खेलेंगे होली,
कान्हा छलिया से, मन बसिया से || राधा ||

लाल गुलाल से मूंह रंग देंगे, रंग बिरंगे रंग डालेंगे,
आज कन्हैया को हम मिलकर अपने रंग में रंग डालेंगे 
झूमके संग नाचेंगे || राधा ||

जब सब सखियाँ घर से निकली, राह में मिल गए मदन मुरारी,
देख के झुर मुट में राधा को, तान ली मोहन ने पिचकारी,
राधा को रंग डारी || राधा ||

दोनों तरफ से रंग है बरसा, लाल गुलाल गगन में छाया,
ऐसे रंगे हैं "पदम्" किसी को चेहरा भी पहचान न आया,
मस्त महीना आया || राधा ||

-:इति:-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email