Wednesday, February 14, 2018

Mere Hriday Viraajo Ganraaj Re

तर्ज :- आजा तुझको पुकारे मेरे गीत रे -2
फिल्म :- नीलकमल 

मेरे ह्रदय विराजो गणराज रे -2,
मेरी विपता टारो आज रे || मेरे ||

जानू न कैसे तेरी वंदना हो,
कैसे सफल मेरी आराधना हो ,
मैं नादान दयालु तुम हो आन सवारो काज रे || मेरे ||

आप कहाते रिद्धि सिद्धि के दाता,
भक्त जनों क भाग्य विधाता,
तीन लोक के सब देवों में तुम ही हो सरताज रे || मेरे ||

मूषे पे रहती है तेरी सवारी,
कोई न जाने है माया तुम्हारी,
आज सभा के बीच प्रभुजी राखो "पदम्" की लाज रे || मेरे ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email