Wednesday, February 21, 2018

Hum To Aaye Gajanand Ke Dwar

तर्ज:- हम न जानी न जानी तुम्हार,

हम तो आये गजानंद के द्वार बाबा,
मिले हमको भी थोड़ा सा प्यार बाबा ||

गौरा ने गणपति को नाजों से पाला,
शिवजी ने गुस्से में सर काट डाला,
माँ की आज्ञा रखी सिरो धार बाबा ||

अलबेले मूषक पे करते सवारी,
देवों ने जानी न लीला तुम्हारी,
ज्ञान बुद्धि में सब गए हार बाबा ||

विघ्न विनाशक हैं गणराज देवा,
कहलायें देवों के सरताज देवा,
रिद्धि सिद्धि भरें भण्डार बाबा ||

"पदम्" ने पूजा की थाली सजाई,
श्रद्धा सबूरी की माला बनायीं,
लाये मोदक के लड्डू चार बाबा ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email