Saturday, February 10, 2018

Kaise Aaun Mai Saawariya

रात आधी अंधियारी डर लागे,

कैसे आऊँ मैं सांवरिया ||


आस टूट गयी सासू मेरी जाग रही,
भेद सारा खोले है पायलिया || कैसे ||

प्रीत कैसे निभे दुश्मन हैं  जग वाले,
वह क्या जाने जिसने की प्यार ना किया || कैसे ||

आग विरहा की कैसे बुझे जाने "पदम्",
और काहे तड़पाये जुल्मी पीया || कैसे ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email