Friday, September 7, 2018

Swarg Se Sundar Watan Hai Mere Is Bhopal Ka

------ तर्ज:- गंगा मैया में जब तक कि पानी रहे ------
------ फिल्म:- सुहागरात -----

क्षीर सिन्धु के है जल से अच्छा पानी ताल का |
स्वर्ग से सुन्दर वतन है मेरे इस भोपाल का ||

तात्या टोपे नगर मंदी जहांगीराबाद है |
है भी पिपलानी शहर का दिल जहाँ आबाद है ||

भद भदे का बहता पानी शिमला कोठी का है नाम |
टकरा है भानु मनुआ और गुफा मंदिर की शान ||

छोले का हनुमान मंदिर, कमला रानी का महल |
शाह अली का मकबरा चारों तरफ है जल ही जल ||

खट्टे मीठे चरपरे का अपना अपना स्वाद है |
एक माँ के पुत्र हैं सबके अलादा नाम हैं ||

नीबू खट्टा गन्ना मीठा चरपरी मिरची की जात |
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई पारसी सब एक साथ ||

एक चमन के फूल हैं सब भाई हैं भारत के लाल |
एक बतन के लाखों लोग हर एक माँ के नौनिहाल ||

दोनों तालों में जब तक कि पानी रहे,
एम.पी. यहीं राजधानी रहे-राजधानी रहे
भैया ओ प्यारे भैया - 2

हमको भोपाल है जाँ से प्यारा,
सारे शहरों से है यह ही न्यारा,
खुश है रैययत यहाँ मोती मस्जिद यहाँ,
बिरला मंदिर की शोभा सुहानी रहे - 2 || भैया ||

भानुमन टैकरा है निराला,
मकबरा शाह अली का है आला,
जमा मस्जिद की शान, गुफा मंदिर महान,
भद भाड़े की सुहावन रवानी रहे - 2 || भैया ||

वह पुराना किला है पुराना,
कमला पारक बना है सुहाना,
लाल कोठी उधर सदर मंजिल इधर,
दो तलैया दोनों तालों की रानी रहे - 2 || भैया ||

चलो टी.टी नगर में घुमाऊँ,
बड़े रंगी नजारे दिखाऊं,
फूल है ला जबाब, कलियों में हिजाब,
इस चमन में हमेशा जवानी रहे - 2 || भैया ||

सुनो भोपाल के नौ जवानों,
मेरा कहना है क्या यह तो जानों,
मैं हूँ जन्मा यहाँ यह "पदम्" का बयां,
बस निछाबर मेरी जिंदगानी रहे - 2 || भैया ||

-: इति :-   



Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email