Saturday, July 28, 2018

Mor Nachat Tore Angna Me

तौरे ऊंचे भुवन बने मात भवानी,
मौर नचत तोरे अंगना में ||

माँ के मंदिर में कंचन कलश धरे,
 बहाँ चन्दन के जड़े है किबाड़ भबानी || मौर ||

तोरे मंदिर में नोवत बाज रही,
शंख झालर बजे खड़ताल भबानी || मौर ||

बैठी अटल सिंहासन जगदम्बे,
ओढ़े चुनरी माँ गोटेदार भवानी || मौर ||

माँ के मस्तक पे बिंदिया दमक रही,
गले मोतियन की माला डार भवानी || मौर ||

कान कुंडल में हीरा चमक रहे,
सोहे सोने के कंगन हाथ भवानी || मौर ||

पाँव पैंजनिया क्षम छम बाज रही,
बहे चरणों से अमृत की धार भवानी || मौर ||

ध्यान पूजन "पदम्" न जानत है,
करूं कैसे तुम्हारो सिंगार भवानी || मौर ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email