Monday, July 23, 2018

Lago Nau Din Ko Mela

------ तर्ज:- दे दो दरस महारानी रे "जस" ------

आई है पूजा की बेला रे,
 लगो  नौ दिन को मेला || लगो ||

पंडा पुजारी ने बो दये जवारे,
मड़ में बजें नित ढोल नगाड़े,
ज्योत जलाये बुंदेला रे || लगे ||

तुमरे द्वार पे भीड़ लगी है,
जगमग ज्योत अखंड जगी है,
हो रही रेलम रेला रे || लगो ||

माई को नरियल निबुआ चड़त है,
आठ दीप नौ खंड पुजत है,
कोई चड़ा रहो है केला रे || लगो ||

चौसठ योगिनी आरती गायें,
भैरो द्वार पे शंख बजाये,
अंगना में लांगुर खेला रे || लगो ||

मैया के जस हिल मिल गाओ,
"पदम्" चरण में बलि बलि जाओ,
दुनिया है झूठा झमेला रे || लगो ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email