Monday, July 23, 2018

Maayi Vaishno Ke Dware

------ तर्ज:- देव मोगरा, कली में भैरों "जस" ------

माई वैष्णों के द्वारे भैरों जम गयो रे,
माई बैठी करे श्रृंगार || माई वैष्णों ||
माई मेरी सुनलो पुकार || माई वैष्णों ||

ब्याह रचाने भैरों हुआ तैयार,
छिपत फिरे मैया जंगल पहाड़,
मच गया हाहाकार || माई ||

माँ ने चतुर्भुज रूप धरो,
भैरों जाए मैया की शरण पड़ो,
दये अपराध बिसार || माई ||

मैया जी भैरों को दिया वरदान,
ऊंचे पहाड़ पे दिया स्थान,
भैरों की भई जयकार || माई ||

"पदम्" सुमर जस गा लइयो,
मैया जी शरण बिठा लइयो,
कर दइयो उद्धार || माई ||

-: इति:-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email