Sunday, June 24, 2018

Maiya Ke Dar Daud Aaya

------ तर्ज:- मैं निकला गड्डी लेके ------
------ फिल्म:- ग़दर ------

धन माया, महल अटारी, सखा बंधु, सूत नारी,
सब छोड़ आया, मैया के दर दौड़ आया ||

माँ को शेरावाली कहते हैं,
कोई माता काली कहते हैं,
माँ के द्वारे ज्योत अखंड जले,
सब ज्योतावाली कहेते हैं,
मैया तेरा नाम जपना, भक्तों में अपना नाम मैं जोड़ आया || मैया ||

हर घर घर में हर मंदिर में,
मेला लगता नौ रातों में,
माँ के नौ दिन उपवास करे,
मैं रोज़ गया जगरातों में,
मैया बैठी ओढ़े चुनरी, मेरी रातें कब गुज़री कब भोर आया || मैया ||

सुर नर मुनि माँ को ध्याते हैं,
ब्रह्मा विष्णु गुण गाते हैं,
शिव शंकर माँ का ध्यान धरे,
यह वेद "पदम्" बतलाते हैं,
माँ की चौखट मेरी मंजिल लाया था एक नारियल वहीँ फोड़ आया || मैया ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email