Thursday, June 28, 2018

नज़म

अकबर था एक राजा - था मन  का बड़ा जिद्दी,
ज्वाला ने अपनी शक्ति - राजा को जब दिखा दी ||

राजा ने मन में ठानी - दरबार में जाऊंगा
ध्यानु से भी कुछ अच्छा - प्रसाद चढ़ाऊंगा ||

 लेकर वह सवा मन का - सोने का छतर लाया
नंगे ही पांव चलकर - मैया के द्वार आया ||

सोने का छतर मेरा - स्वीकार करेगी मां
ध्यानु की तरह मुझ पर - उपकार करेगी मां ||

 मैया बड़ी दयालु - राजा ने मन में सोचा
सबसे बड़ा भगत हूं - उसको घमंड आया ||

 मैया के शीश पर वह - जब छतर को चढ़ाने
तैयार हुआ राजा - मैया को जब मनाने ||

अकबर की यह नादानी - सब देख रही मैया
करना है कुछ करिश्मा - यह सोच रही मैया ||

सोने का छतर उसका - ठुकरा दिया था मां ने
अंजाम घमंडी को - दिखला दिया था मां ने ||

मां ज्वाला की ज्वाला से - सोना भी हुआ काला
शक्ति है मां में कितनी - दुनिया को दिखा डाला ||

भक्तों से "पदम्" जो भी - मैया को जानते हैं 
हिंदू हो या मुसलमान - मैया को मानते हैं ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email