Monday, May 7, 2018

Maiya Bhuvna Tumhaar

------ तर्ज:- स्वांग ------

मैया भुवना तुम्हार आल्हा ने झंडा गड़ा दये,
मैया अंगना तुम्हार आल्हा ने झंडा गड़ा दये ||

दिन मैया की ज्योति जलाई, नारियल निबुआ की भेंट चड़ायी,
हमरी सुनियो पुकार - 2 || आल्हा ||

लाल टिकी, लाल महावर, चढ़ा रहे गौटा, जड़ी लाल चूनर उड़ा रहे,
माँ को कर दियो सिंगार - 2 || आल्हा ||

चंपा चमेली के हार बनाये, हलुआ पूड़ी के भोग लगाये,
माई करियो स्वीकार - 2 || आल्हा ||

शिव शंकर तेरो ध्यान लगावे, ब्रह्मा विष्णु भेद न पावे,
माँ की महिमा अपार - 2 || आल्हा ||

तीन लोक चौदह भुवनों में शीश धरे तुमरे चरणों में,
खूब हो रई जयकार - 2 || आल्हा ||

मैहर करो माँ मैहर वाली "पदम्" खड़ो है द्वार सवाली,
दर्श दई दो एक बार - 2 || आल्हा ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email