Thursday, March 1, 2018

Chheend Ko Dada Albela

तर्ज :- दे दो दरस महारानी रे

छींद को दादा अलबेला,
लगे मंगल को मेला ||

कोई कहे बजरंगी आला,
कोई कहे माँ अंजनी के लाला,
राम को भगत अकेला || लगे ||

रावण पूँछ में आग लगायी,
तुमने उसकी लंका जलाई,
खेल अजब तुमने खेला || लगे ||

सीता राम लखन मन लायी,
तुमने छाती फाड़ दिखाई,
कौन गुरु कौन चेला || लगे ||

छींद गाँव की महिमा न्यारी,
मेला भरत दशहरे पे न्यारी,
भक्तों की रेलम रेला || लगे ||

बजरंग के गुण गाओ प्राणी,
"पदम्" यूं कह गए ज्ञानी ध्यानी,
जग है झूठ झमेला || लगे ||

-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email