Tuesday, December 26, 2017

Bol Bhola Bol Darshan Dega Ke Nahi

तर्ज :- मेरे मन की गंगा तेरे मन की 
फिल्म :- संगम 


जटों में बहती गंगा, वह भंगिया का दीवाना,
बोल भोला बोल दर्शन देगा की नहीं  । । 

भोला भाला  जग से भोला जाय बसा वीराने में,
आन पढ़ा हूँ राह में तेरी, देर करी क्यों आने में,
दिल लेकर के बदले में, दिल देगा की नहीं । । बोल । ।

जब जब पाप बढ़ा धरती पर तब तुमने अवतार लिया,
दुष्टों का संहार किया है, और भक्तों को तार दिया,
मेरे दिल के मंदिर में तू रहेगा की नहीं  । । बोल । ।

शिव शंकर है नाम तुम्हारा, डमरू बजाने वाले हो,
आज "पदम्" की दाता तुम्ही लाज बचाने वाले हो,
मुझ अज्ञानी को सेवा में लेगा की नहीं  । । बोल । ।


-: इति :-


Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email