Saturday, April 1, 2017

Draupadi ki Pukaar

------ तर्ज - होंठों को छूलो तुम मेरा गीत अमर कर दो ------
------ फिल्म   - प्रेमग्रंथ ------

। ।  द्रौपदी की पुकार । ।

अब लाज कहीं मोहन द्रौपदी की न लुट जाये,
आँखों में भरे मोती अनमोल न लुट जाएँ । ।

घनश्याम मेरी बिगड़ी जो आज न बन पायी,
इस तरह ये लगता है तेरा नाम न मिट जाये   । । अब । ।

यह दुष्ट दुशासन है खींचे है मेरी साड़ी,
आजाओ मेरे भैया यह वक्त न कट  जाये      । । अब । ।

मल्लाह ने मुह मोड़ा दीखे न किनारा है,
विनती यह "पदम्" की है नैया न पलट जाये  । । अब । । 


                                                                 
                                                                                 -: इति :-
Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email