Friday, March 31, 2017

Hari Naam Sumar Bande

------ तर्ज - होंठों को छूलो तुम मेरा गीत अमर कर दो ------
------ फिल्म   - प्रेमग्रंथ ------

हरी नाम सुमर बन्दे हर दुःख टल जाएगा,
भक्ति और मुक्ति का मार्ग मिल जाएगा । ।

तन कोमल मन चंचल धन का अभिमान न कर,
यह चढ़ता सूरज है एक दिन ढल जाएगा             । ।  हरी । ।

रिश्ते नाते परिजन मतलब के साथी हैं,
यह  भेद किसी दिन तो खुद ही खुल जाएगा        । ।  हरी । ।

यह दौलत यह शोहरत कुछ काम नहीं आए,
जैसा तू बोएगा वैसा फल पाएगा                         । ।  हरी । ।

आया है कहाँ से तू जाएगा किधर बतला,
रोता हुआ आया है, रोता कल जाएगा           । ।  हरी । ।

हर एक मन मंदिर में भगवान की मूरत है,
मन की अखियों से "पदम्" दर्शन मिल जाएगा    । ।  हरी । ।


                                                                         
                                                                          -: इति :-
Share:

0 comments:

Post a Comment

Contributors

Follow by Email